90s Songs Bollywood Song Lyrics Kumar Sanu

Ae Kash Kahin Aisa Hota Lyrics In Hindi And English

Ae Kash Kahin Aisa Hota Lyrics In Hindi And English -: ऐ काश कहीं ऐसा होता  – Ae Kash Kahin Aisa Hota Lyrics from Mohra. sung by Kumar Sanu and composed by Viju Shah And starring Akshay Kumar, Suniel Shetty , Raveena Tandon, Poonam Jhawer and Naseeruddin Shah in the lead roles, with Paresh Rawal, Gulshan Grover, Raza Murad and Sadashiv Amrapurkar in supporting roles.

Song : Ae Kash Kahin Aisa Hota
Movie : Mohra (1994)
Singer : Kumar Sanu
Music : Viju Shah
Lyrics : Anand Bakshi

Ae Kash Kahin Aisa Hota Lyrics In English

Ae kash kahin aisa hota
Ke do dil hote seene mein

Ik toot bhi jata ishq mein to
Ik toot bhi jata ishq mein to
Takleef na hoti jeene mein
Takleef na hoti jeene mein
Ae kash kahin aisa hota
Ke do dil hote seene mein

Sach kehte hain..
Sach kehte hain log ke pee kar
Ranj nasha ban jata hai
Koyi bhi ho rog yeh dil ka
Dard dava ban jata hai
Aag lagi ho iss dil mein to
Aag lagi ho iss dil mein to
Harz hai kya phir peene mein
To harz hai kya phir peene mein

Ae kash kahin aisa hota
Ke do dil hote seene mein
Ik toot bhi jata ishq mein to
Ik toot bhi jata ishq mein to
Takleef na hoti jeene mein
Takleef na hoti jeene mein

Bhool nahi sakta yeh sadma
Yaad hamesha aayega
Kisi ne aisa dard diya jo
Barson mujhe tadpayega
Bhar nahi sakte zakhm yeh dil ke
Bhar nahi sakte zakhm yeh dil ke
Koyi saal maheene mein
Koyi saal maheene mein

Ae kash kahin aisa hota
Ke do dil hote seene mein
Ik toot bhi jata ishq mein to
Ik toot bhi jata ishq mein to
Takleef na hoti jeene mein
Takleef na hoti jeene mein

Ae kash kahin aisa hota
Ke do dil hote seene mein

Ae Kash Kahin Aisa Hota Lyrics In Hindi

ऐ काश कहीं ऐसा होता
के दो दिल होते सीने में

ऐ काश कहीं ऐसा होता
के दो दिल होते सीने में
एक टूट भी जाता इश्क़ में तो
एक टूट भी जाता इश्क़ में तो
तकलीफ ना होती जीने में
तकलीफ ना होती जीने में
ऐ काश कहीं ऐसा होता
के दो दिल होते सीने में

सच कहते है
सच कहते है लोग ये पीकर
रंज नशा बन जाता है
कोई भी हो रोग ये दिल का
दर्द दवा बन जाता है
आग लगी हो इस दिल में तो
आग लगी हो इस दिल में तो
हर्ज है क्या फिर पिने में
तो हर्ज है क्या फिर पिने में

ऐ काश कहीं ऐसा होता
के दो दिल होते सीने में
एक टूट भी जाता इश्क़ में तो
एक टूट भी जाता इश्क़ में तो
तकलीफ ना होती जीने में
तकलीफ ना होती जीने में

भूल नहीं सकता ये सदमा
याद हमेशा आएगा
किसी ने ऐसा दर्द दिया जो
बरसो मुझे तड़पाएगा
भर नहीं सकते ज़ख्म ये दिल के
भर नहीं सकते ज़ख्म ये दिल के
कोई साल महीने में
कोई साल महीने में

ऐ काश कहीं ऐसा होता
के दो दिल होते सीने में
एक टूट भी जाता इश्क़ में तो
एक टूट भी जाता इश्क़ में तो
तकलीफ ना होती जीने में
तकलीफ ना होती जीने में
ऐ काश कहीं ऐसा होता
के दो दिल होते सीने में.

See Also -:

Leave a Reply