90s Songs Bollywood Song Lyrics Kumar Sanu

Adayein Bhi Hain Mohabbat Bhi Hai Lyrics – अदाएं भी हैं मुहब्बत भी

Adayein Bhi Hain Mohabbat Bhi Hai Lyrics In Hindi And English

Adayein Bhi Hain Mohabbat Bhi Hai Lyrics In Hindi And English -: अदाएं भी हैं मुहब्बत भी  – Adayein Bhi Hain Mohabbat Bhi Hai Lyrics from Dil Hai Ke Manta Nahin. sung by Kumar Sanu and composed by Nadeem Saifi, Shravan Rathod.

Song : Adayein Bhi Hain Mohabbat Bhi Hai
Movie : Dil Hai Ke Manta Nahin
Singer : Kumar Sanu
Music : Nadeem Saifi, Shravan Rathod
Lyrics : Sameer

Adayein Bhi Hain Mohabbat Bhi Hai Lyrics In English

Adayein bhi hain mohabbat bhi hai
Sharafat bhi hain mere mehboob mein
Woh deewanapan, woh zaalim adaa
Shararat bhi hai mere mehboob mein

Adayein bhi hain mohabbat bhi hai
Nazakat bhi hain mere mehboob mein
Woh deewanapan, woh masoomiyat
Shararat bhi hai mere mehboob mein

Na poochho mera dil kahan kho gaya
Tujhe dekhte hi tera ho gaya
Aankhon mein tu, mere khwaabon mein tu hai
Yaadon ke mehke gulabon mein tu hai

Woh sehmi nazar, woh kamsin umar
Chahat bhi hai mere mehboob mein
Woh deewanapan, woh masoomiyat
Shararat bhi hai mere mehboob mein

Saanson ki behti lehar ruk gayi
Mujhe sharm aayi, nazar jhuk gayi
Ke hum unke kitne kareeb aa gaye
Yeh soch ke hum to ghabra gaye

Woh baankpan, woh deewangi
Inayat bhi hai mere mehboob mein
Woh deewanapan, woh zaalim adaa
Shararat bhi hai mere mehboob mein

Mohabbat ki duniya basane chala
Main tere liye sab bhulane chala
Khushbu koyi uski baaton mein hai
Har faisla uske hathon mein hai

Woh mehaka badan, woh sharmeelapan
Nazakat bhi hai mere mehboob mein
Woh deewanapan, woh zaalim adaa
Shararat bhi hai mere mehboob mein

Adayein bhi hain mohabbat bhi hai
Nazakat bhi hain mere mehboob mein

Adayein Bhi Hain Mohabbat Bhi Hai Lyrics In Hindi

अदाएं भी हैं मुहब्बत भी है शराफ़त भी है मेरे महबूब में
वो दीवानापन वो ज़ालिम अदा शराफ़त भी है मेरे महबूब में
अदाएं भी है मुहब्बत भी है शराफ़त भी है मेरे महबूब में
वो दीवानापन वो ज़ालिम अदा शराफ़त भी है मेरे महबूब में

ना पुछो मेरा दिल कहाँ खो गया तुझे देखते ही तेरा हो गया
आँखो में तू है मेरे ख्वाबों में तू है यादों के महके गुलाबों में तू है
वो सहमी नज़र वो कमसिन नज़र चाहत भी है मेरे महबूब में
वो दीवानापन वो मासूमियत शरारत भी है मेरे महबूब में

साँसों की बहकी लहर रुक गई मुझे शर्म आई नज़र झुक गई
की हम उनके कितने करीब आ गए ये सोच के हम तो घबरा गए
वो बान्क्पन वो दीवानगी इनायत भी है मेरे महबूब में
वो दीवानापन वो मासूमियत शरारत भी है मेरे महबूब में

मुहब्बत की दुनिया बसने चला मै तेरे लए सब भूलने चला
खुश्बू कोई उसकी बातों मे है हर फ़ैसला उसके हाथो में है
वो महका बदन वो शर्मिलापन नज़ाकत भी है मेरे महबूब में
वो दीवानापन वो मासूमियत शरारत भी है
अदाएं भी है मुहब्बत भी है नज़ाकत भी है मेरे महबूब में.

See Also -:

Leave a Reply