90s Songs Alka Yagnik Bollywood Song Lyrics Kumar Sanu

Aankho Me Ninde Na Dil Me Karar Lyrics – आँखों में नींदे

Aankho Me Ninde Na Dil Me Karar Lyrics – आँखों में नींदे -: Aankho Me Ninde Na Dil Me Karar Lyrics  from Sanam. sung by Alka Yagnik, Kumar Sanu and composed by Anand Shrivastav, Milind Shrivastav And starring Sanjay Dutt, Manisha Koirala, Vivek Mushran, Shakti Kapoor, Gulshan Grover.

Song : Aankhon Mein Neende Na Dil Mein Qaraar
Album : Sanam (1997)
Singer : Alka Yagnik, Kumar Sanu
Music : Anand Shrivastav, Milind Shrivastav
Lyrics : Sameer

Aankho Me Ninde Na Dil Me Karar Lyrics In English

Aankhon mein neende na dil mein qaraar
Aankhon mein neende na dil mein qaraar
Mohabbat bhi kya cheez hoti hai yaar
Mohabbat bhi kya cheez hoti hai yaar
Kabhi bekhudi to kabhi intezaar
Kabhi bekhudi to kabhi intezaar
Mohabbat bhi kya cheez hoti hai yaar
Mohabbat bhi kya cheez hoti hai yaar

Dard uthe pyaas jage, yaad sataaye
Koi sadaa shaam-o-saher paas bulaaye
Dard uthe pyaas jage yaad sataaye
Koi sadaa shaam-o-saher paas bulaaye
Raat dhale dhoop khile aaye saveraa
Chaahaton ke aashiyaan mein dil ka baseraa
Beqaraari hai jaane kyon sanam
Aankh hai khuli neend mein hain hum
Har ghadi hai dil pe kaisa yeh khumaar

Aankhon mein neende na dil mein qaraar
Aankhon mein neende na dil mein qaraar
Mohabbat bhi kya cheez hoti hai yaar
Mohabbat bhi kya cheez hoti hai yaar

Main to tujhe ek bhi palbhool na paaoon
Jaan-e-wafa paas tere daud ke aaoon
Main to tujhe ek bhi pal bhool na paaoon
Jaan-e-wafa paas tere daud ke aaoon
Tu jo kahe rasmein sabhi tod doon sanam
Tere liye dono jahaan chhod doon sanam
Raat na kate na kate yeh din
Kaise kategi umr tere bin
Pyar zindagi mein hota hai ek baar

Aankhon mein neende na dil mein qaraar
Aankhon mein neende na dil mein qaraar
Mohabbat bhi kya cheez hoti hai yaar
Mohabbat bhi kya cheez hoti hai yaar
Kabhi bekhudi to kabhi intezaar
Kabhi bekhudi to kabhi intezaar
Mohabbat bhi kya cheez hoti hai yaar
Mohabbat bhi kya cheez hoti hai yaar

Aankho Me Ninde Na Dil Me Karar Lyrics In Hindi

आँखों में नींदे न दिल में क़रार
आँखों में नींदे न दिल में क़रार
मोहब्बत भी क्या चीज़ होती है यार
मोहब्बत भी क्या चीज़ होती है यार
कभी बेख़ुदी तो कभी इंतज़ार
कभी बेख़ुदी तो कभी इंतज़ार
मोहब्बत भी क्या चीज़ होती है यार
मोहब्बत भी क्या चीज़ होती है यार

दर्द उठे प्यास जगे
कोई सदा शाम-ो-सहर पास बुलाये
दर्द उठे प्यास जगे याद सताए
कोई सदा शाम-ो-सहर पास बुलाये
रात ढले धुप खिल आये सवेरा
चाहतों के आशियाँ में दिल का बसेरा
बेक़रारी है जाने क्यों सनम
आँख है खुली नींद में हैं हम
हर घडी है दिल पे कैसा यह खुमार

आँखों में नींदे न दिल में क़रार
आँखों में नींदे न दिल में क़रार
मोहब्बत भी क्या चीज़ होती है यार
मोहब्बत भी क्या चीज़ होती है यार

मैं तो तुझे एक भी पालभूल न पाऊँ
जान-इ-वफ़ा पास तेरे दौड के ाऊँ
मैं तो तुझे एक भी पल भूल न पाऊं
जान-इ-वफ़ा पास तेरे दौड के ाऊँ
तू जो कहे रस्में सभी तोड़ दूं सनम
तेरे लिए दोनों जहां छोड़ दूँ सनम
रात न काटे न कटे यह दिन
कैसे कटेगी उम्र तेरे बिन
प्यार ज़िन्दगी में होता है एक बार

आँखों में नींदे न दिल में क़रार
आँखों में नींदे न दिल में क़रार
मोहब्बत भी क्या चीज़ होती है यार
मोहब्बत भी क्या चीज़ होती है यार
कभी बेख़ुदी तो कभी इंतज़ार
कभी बेख़ुदी तो कभी इंतज़ार
मोहब्बत भी क्या चीज़ होती है यार
मोहब्बत भी क्या चीज़ होती है यार.

See Also -:

Add Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: